17 जून 2010

स्कुल चले हम

स्कुल की छड़ी तब ऐसी थी पड़ी

अब की घडी आये याद वो सुहानी घडी ,

चलो आज अकेले में बच्चे की बेग उठाकर देखे ,

उसकी किताबों में अपने बचपन को ढूंढकर देखे ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...