28 अप्रैल 2010

चाँद ...

कल रात चौदवीका चाँद

गगनकी सैर को आया था ...

मेरी खिड़की के शीशे में ...

अपना अक्स देखकर वो भी इतराया था ....

=================================

चांदके कागज़ पर सितारोंने एक नज़्म लिखी है ...

ना आये गर समज में हर किसीकी वो ...

उसे समजने बस एक नियामत खुदा से पानी है ,

बस इश्क हो जाए किसीसे तो वो खुद ब खुद समज आ जानी है ....

6 टिप्‍पणियां:

  1. एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल रात चौदवीका चाँद

    गगनकी सैर को आया था ...

    मेरी खिड़की के शीशे में ...

    अपना अक्स देखकर वो भी इतराया था ....
    बहुत ख़ूब........अंदाज़े बयाँ।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...