17 नवंबर 2009

ख्वाबसा चेहरा

सुलगते दीपककी लौमें देखे चेहरेकी
मुस्कान नशीली सी महफ़िल रोशन कर गई .......
--------------------------------------------
ख़ामोशी खामोश हो जाती है ,
तनहाई जब बोलने लगती है .....
----------------------------------------------
अश्ककी भाषाने दिखाया हमें
आपके हाले दिल का अक्स ......

2 टिप्‍पणियां:

  1. ख़ामोशी खामोश हो जाती है ,
    तनहाई जब बोलने लगती है .....waah kya baat kahi,bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  2. अश्ककी भाषाने दिखाया हमें
    आपके हाले दिल का अक्स ......
    waah! kya sundar bhaw hain.!!

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...