25 अक्तूबर 2009

एक शामियाना ....

दरख्तोंके शामियानेमें कोयलकी कूक शहनाई बन गूंज उठी ,

अम्बियाकी खट्टी सी खुशबू साँसोंको तर करती चली गई ,

बहारों का खुशनुमा मौसम दस्तक देने लगा मेरे दर पर ,

क्यों तेरे इंतज़ारमें बिछी मेरी आँखे तेरी तस्वीर पर ठहरकर नम हो गई ?

===============================================

दरारोंको भर रही थी गीली मिटटीसे कल ,

हर दरारमें तेरी यादें छुपकर बैठी थी ....

मिटटीसे उसे भर न सकी मैं ,

टूटे शीशेसी तुम्हारी यादोंको सजाकर बिखरनेका इंतज़ार कर गई ......

==============================================

तकरीर तुम्हारी सुन ली प्यार का इज़हार लिए ,

सुन सको तो सुन लो जो मेरी खामोशी बयां कर गई .....

1 टिप्पणी:

  1. हर दरारमें तेरी यादें छुपकर बैठी थी ....

    मिटटीसे उसे भर न सकी मैं ,

    टूटे शीशेसी तुम्हारी यादोंको सजाकर बिखरनेका इंतज़ार कर गई ......
    waah kya baat kahi lajawab

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...