23 जुलाई 2009

बुँदे ...

घने बादलों के पार से कुछ उम्मीद दिखाई दे रही थी ,

मैं सोचता रहा क्यों पास नहीं आ रही ?

बैठे बैठे सोचता रहूँ तो क्या खाक पास आएगी ,

बस कदम बढ़ा लूँगा उसकी ओर तो ही वो करीब दिखाई देगी ...

=============================================

आज पत्तो पर सोयी कुछ बारिशकी बुँदे मिल गई ,

हथेली पर सजा कर उसमे मेघ धनु ढूंढ़ना चाहा ,

बारिश की वह चंचल बुँदे हंसकर फिसल गई ,

मेरे चेहरे पर एक मुस्कान का मेघ धनु छोड़ गयी.....

2 टिप्‍पणियां:

  1. बारिश की वह चंचल बुँदे हंसकर फिसल गई ,

    मेरे चेहरे पर एक मुस्कान का मेघ धनु छोड़ गयी.....

    waah kya baat hai,ek bond muskan hame bhi mil gayi,sunder.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...