31 जुलाई 2009

एक सुबह तुम्हारी याद आ गई ...

आज सुबह का हँसी समां था ,

ऐसे ही बैठे थे उगते सूरज का नजारा था ,

हाथमें खुली डायरी थी, कोरे पन्ने थे ,

दांतों तले कलम दबाये शब्द को पढ़ रही थी .....

खुले आसमानके रंगों की भाषामें लिखे थे ,

हसीं वो तस्वीरें कुछ फरमा रही थी

और मुझे तुम्हारे साथ गुजरे वो हँसी पलोंकी

बड़ी शिद्दतसे याद आ रही थी ....................

अनजानेमें ये नटखट आंखोंसे कुछ अश्क बेकाबूसे बह गए ,

उस कोरे पन्ने पर तुम्हारी तस्वीर बना गए ,

मेरी सहर तुम हो, मेरी शाम तुम हो ,

मेरी जिंदगीकी इब्तदा से इन्तेहाँ तक का सफर तुम हो .......

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...