14 जुलाई 2009

ये एक मजेदार इ मेल आया है ....

१ पत्ते गिर सकते है पेड़ नहीं ,सूरज डूब सकता है आसमां नहीं ,

धरती सुख सकती है दरिया नहीं ,दुनिया सुधर सकती है आप नहीं ....

=====================================

२ आना फ्री जान फ्री ,

पकडे गए बिना टिकेट के तो खाना फ्री ....

===================================

३ वो आज भी हमें देखकर मुस्कुराते है ,

हम आज भी उन्हें देखकर मुस्कुराते है

ये तो उनके बच्चे ही कमीने है

जो हमें मामा कहकर बुलाते है ...

================================

४ तेरी गलियों के चक्कर काटते हुए

काटते कुत्ते भी मेरे यार हो गए

तू तो हमारा न हुआ पर

हम कुत्तों के सरदार हो गए ....

==============================

५ आज कुछ घबराए हुए से लगते हो

ठण्डसे कपकपाये से लगते हो

निखर आई है सूरत आपकी

बहुत दिनों के बाद नहाये से लगते हो

============================

६ जिसे कोयल समजा वो कौवा निकला

दोस्ती के नाम पर हौवा निकला

जो रोका करते थे शराब पिने से

उसीकी जेबसे पौवा निकला ....

=============================

७ तेरी जुल्फें है या घना अँधेरा

कटवा दे बाल और करदे सवेरा

============================

८ फूलोंकी महक को चुराया नहीं जाता

सूरजकी किरणों को छुपाया नहीं जाता

कितनी भी सुंदर गर्ल फ्रेंड हो अपनी

दूसरों की गर्ल फ्रेंड को भुलाया नहीं जाता

==============================

९ आपकी यादों को पेप्सी बनाकर पिया करेंगे

बेवक्त आपको मिस किया करेंगे

मर भी गए तो क्या हुआ

यमराज के मोबाइल से आपको एस एम् एस किया करेंगे

=========================================

१० जो हमेशा से होता आया है

वो रिपीट कर दूंगा

तू न मिली तो अपनी जिंदगी

कंट्रोल + आल्टर + डिलीट कर दूंगा

=================================

११ प्यार तो हमें भी करना था

पर कुछ खास नहीं हुआ

ताज महल तो हमें भी बनवाना था

पर अफ़सोस !!! लोन पास नहीं हुआ ....

==================================

ये इ मेल पर आई कुछ मजेदार शायरी है ...

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...