15 जून 2009

जायज सब कुछ ....

वक्तकी सीपीसे नायाब मोती नजर करने आए थे कभी ,

मशरूफी देखी जब आपकी ,खामोशीका दामन थामे

हम रुखसत कर गए ...

===================================

जंग और मोहब्बतमें जायज होता है सब ,

सुना करते हम ये लंबे अरसे से ,

अबकी कटार भी आपकी थी ,निशाना भी आप थे ,

अब जख्म क्यों गहरा लगा ? ये तो आपके दिए जख्मका अक्स था ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...