7 अप्रैल 2009

गुजरे लम्होकी याद

जिंदगी अभी तो शुरू हुई थी
कुछ समझनेमें उसे शायद गलती हो गई है........
==================================
खंडहरको देखा आज उम्रकी नजरसे,
इस वीरानेमें अभी यादें जवान थी...........
====================================
आज इस सूनेसे मकानमें किसीकी आहटसे,
जमीं पर गदॅ को किसीके कदमके निशांकी चाहत हुई....

3 टिप्‍पणियां:

  1. आज इस सूनेसे मकानमें किसीकी आहटसे,
    जमीं पर गदॅ को किसीके कदमके निशांकी चाहत हुई....
    wwaahh bahut sunder

    जवाब देंहटाएं
  2. थोड़ा कसिए, शब्दों की फिजूलखर्ची कोई ज़रुरी तो नहीं, वैसे कविता भावपूर्ण है।

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...