31 मार्च 2009

नकाब .....

नकाब ओढे आती है जिंदगी ,

छूने जाते हैं तो रेत सी फिसल जाती है जिंदगी ...

===============================

सूखे दरख्तों पर फूल कहाँ ?

गमगिनसे माहौलमें पनपेगी जिंदगी कहाँ ?

===============================

कानोंमें पूछती है क्यों तू हरदम मुझे सवाल ?

पढ़ ले किस्मत आज इन सफों पर मेरे जवाब ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...