16 जनवरी 2009

इश्क का जादू



हिजाबका नाम लेकर पलकोंकी चिलमन आँखोंके मयखाने पर ढँक लेते हो ,

काजलकी लकीर समशेर बनकर वार कर जाती है कत्ल हमें बस नजर से कर देते हो ।


शर्मोहयाकी अदाएं सब हसीनोंकी जिनके लब कुछ और निगाहें कुछ और बयां करती है ,

किसी हसीना को जरुरत नहीं हथियार की कभी ,जब अदाएं ही घायल कर जाती है ।


इश्क की रहगुजर से हम थे नावाकिफ पर हमारा तार्रुफ़ कराया आपकी उस दिलकशीने ,

जब दुपट्टा सरका था सिरसे आपके और चेहरे पर जुल्फोंकी घटा छा गई थी ।


एक जंजीर जुल्फ की थी बड़ी ही नटखट उड़ उड़ कर चेहरे पर आ रही थी ,

और कँवल सी नाजुक आपकी वो उंगली उसे चेहरेसे बार बार हटा रही थी ।


आपके ये दीदारने हमें इस कदर दीवाना बना दिया है हरदम ख्वाबोंमें आकर ,

मोहब्बत की वो अनजान अहेसासोंकी डगरका पता ठिकाना बता दिया है ।


इसे इश्क कहो या मोहब्बत कहो इबादत समज खुदाकी बंदगी करली जब हमने ,

तब डोली जब उठी आपकी तो अपनी सारी खुशियों को आपको इनायत कर दी हमने ...

5 टिप्‍पणियां:

  1. से इश्क कहो या मोहब्बत कहो इबादत समज खुदाकी बंदगी करली जब हमने ,

    तब डोली जब उठी आपकी तो अपनी सारी खुशियों को आपको इनायत कर दी हमने ...

    bahut sundar rachna..kaise likh lete hain aap?

    उत्तर देंहटाएं
  2. ishq ka jadoo aisa hi hota hai..........jo na karwaye kam hai.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...