10 अक्तूबर 2011

उस सपने को

बस एक नया जहाँ आवाज देकर छुप जाता है ,
बस यूँही बैठे बैठे कुछ सपने दे जाता है .....
बस इस मुठ्ठीमें कैद कर लेना है उसे आज 
उस सपने को कागज़ पर सजा कर तो देखे !!!!

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...