6 फ़रवरी 2010

फिर एस एम् एस की दुनियामें

दोस्तोंके लिए एक मेसेज :

कभी याद आये तो फोन करो ,यार !!!

पैसे कम हो तो एस एम् एस करो यार !!!

बिलकुल कड़के हो गए हो तो मिस कोल करो यार !!!!

और ये भी ना हो सके तो ....

मोबाइलको वायब्रेटर मोड़ पर रखकर दहीं में डाल दो

लस्सी बन जाएगी ,पीकर ऐश करो यार !!!!!

=====================================

इमरान हाश्मीका फ़िल्मी सफ़र :

इमरान हाश्मीने अपनी गर्लफ्रेंड को पहले "आशिक बनाया ",

फिर "चोकलेट " में " ज़हर " डालकर "मर्डर " कर डाला ...और कहा

"कलयुग "में "अक्सर " ऐसी ही "जन्नत " नसीब होती है .....

=============================================

फ्रेंड अंकलकी सूचि :

थ्री इडियट देखने के बाद अंकल और आंटियां अपने अपने दोस्त लोगों को ये मेसेज भेज रहे है :

शायद फिर से वो

तस्वीर मिल जाए ...

जीवनके सबसे हँसी

वो पल मिल जाए ...

चल ,फिर से बैठे

क्लास की लास्ट बेंच पर

शायद वापस अपने

पुराने दिन मिल जाए .......

================================

कोलेज का क्लास रूम ट्रेनके डब्बे जैसे ही होते है ....पहली दो बेंच रिजर्व कोच होते है , बिच की तीन से साथ बेंच जनरल कम्पार्टमेंट होते है ...और लास्ट दो बेंच वी आई पी लोगों के लिए स्लीपर कोच होते है ....

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...