11 मई 2009

एक कश्मकश ....

जहाँ पर नज़र रूकती है रुख तेरे आशियाने का है ,

आँखें मूंदते है मगर दीदार तेरे ख़यालमें होते है ,

इसे इश्क का आलम समज़नेकी गुस्ताखी करे कैसे ?

दिल टूट जानेके अंजामसे डरते है ...........

========================================

एक बार आपके दिल पर इख्तियार आ जाने दो ,

मुझे अपने दिलसे भी इसकी इजाज़त मांगने दो ,

कितनी साँसे बाकी है अब उसका तो पता नहीं हमें ,

जुदाई लिखी तक़दीरने फिरभी अपनी आखरी साँस पर इश्क कर लेने दो .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...